संस्कृति और विरासत

चतरा का संस्कृति और विरासत

प्राचीन समय  से चतरा एक  धार्मिक सहिष्णुता का एक स्थान रहा है। यह “शक्ति पीठ ” के लिए मुख्य रूप से प्रसिद्ध है | यहाँ  शक्ति पीठ  हंटरगंज और इटखोरी ब्लॉक में पाई जाती है। कुछ मुस्लिम तीर्थस्थल  प्रतापूर ब्लॉक और चतरा  सदर में स्थित हैं।

कौलेश्वरी पहाड़

पहाड़ की चोटी पर बनी प्राचीन मंदिर में मां कौलेश्वरी की दिव्य प्रतिमा स्थापित है | लोक व धार्मिक कथाओं के अनुसार राजा विराट ने माता के प्रतिमा को यहां स्थापित किया था| तब से लेकर आज तक आस-पास के क्षेत्रों में मां कौलेश्वरी श्रद्धालुओं के लिए श्रद्धा और आस्था का केंद्र बनी हुई है |माता की प्रतिमा काले दुर्लभ पत्थर को तराश कर बनाई गई है| मंदिर के पुजारियों वह भक्तों के अनुसार माता यहां जागृत अवस्था में विराजमान हैं |मन्नत मांगने वाले भक्तों की हर मुराद माता पूरी करती है|

भद्रकाली मंदिर

भद्रकाली मंदिर यह चतरा  के पूर्व में 35 किमी और जीटी  रोड  चौपारण से 16 किमी पश्चिम में है।पवित्र महाने  एवं बक्सा नदी के संगम पर अवस्थित इटखोरी मां भद्रकाली मंदिर परिसर तीन धर्मों का संगम स्थल है सनातन बौद्ध एवं जैन धर्म का यहाँ समागम हुआ है|प्रागैतिहासिक काल से इस पवित्र भूमि पर धर्म संगम की अलौकिक भक्ति धारा बहती चली आ रही है सनातन धर्मावलंबियों के लिए यह पावन भूमि मां भद्रकाली तथा सहस्त्र  शिवलिंग महादेव का सिद्ध पीठ के रूप में आस्था के केंद्र है वही बौधिष्ठो के लिए भगवान बुद्ध की तपोभूमि के रूपमें आराधना वा उपासना का स्थल है शांति की खोज में निकले युवराज सिद्धार्थ ने यहाँ  तपस्या की थी| उस वक्त उनकी मां उन्हें वापस ले जाने आयी थी | लेकिन जब सिद्धार्थ का ध्यान नहीं टूटा तो उनके मुख से इतखोई शब्द निकला जो बाद में इटखोरी में तब्दील हुआ|

बरुरा  शरीफ़

प्रतापुर में सतबहिनी  नदी के तट पर बरुरा  शरीफ़ में अमीर अली शाह का मजार है। यह कहा जाता है कि सूफी संत 18 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में यहां आया था। यहाँ हिंदु और मुस्लिम समुदाय के  लोग आते हैं | बुरी आत्माओं से पीड़ित लोग बड़ी संख्या में यहां आते हैं और स्वयं ठीक हो जाते हैं।

रबदा शरीफ़

फहम ख्याल शाह का एक मजार (श्राइन) प्रतापुर में राबड़ा शरीफ में है, जो बरुरा  शरीफ के अमीर अली शाह के समकालीन थे। यहां संत का वार्षिक मेला धूमधाम और भव्यता के साथ मनाया जाता है।

चतरा का शाही मस्जिद

अव्वल  मोहल्ला जिले के मुख्यालय में एक शाही मस्जिद है जिसका निर्माण 1660 इसवी के बाद किया गया था जब दाऊद खान औरंगजेब के मुगल राज्यपाल ने कोठी और कुंडा को जीत लिया था। मस्जिद में एक तहखना  था जो अब बंद हो गया है और आधुनिक शैली में मस्जिद का पुनर्गठन किया गया|

संगत

चतरा के गुदरी बाजार मोहल्ला में सिख पंथ  के उदासी पंथ का  एक संगत  है, जहां पवित्र गुरग्रंथ  साहब की एक पुरानी लिपि  है। सिखों और हिंदुओं दोनों धर्म समुदायों  के लिए यह स्थान पूजनीय है |

इस प्रकार, चतरा सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक है जहां हिंदू, मुसलमान और सिख समुदाय के लोग शांति और सद्भाव के साथ रहते हैं।

भाषाएँ

इस जिले की कोई विशिष्ट और मान्यता प्राप्त भाषा नहीं है। आम तौर पर मगही, नागपुरी, खोरठा  बोली जाती है लेकिन ये भाषाएँ भी  शुद्ध रूप से  नहीं बोली जाती हैं बल्कि एक मिश्रित रूप में बोली जाती  हैं। आम तौर पर लोग हिंदी, उर्दू भाषाओं को समझते हैं। लोग दिन-प्रतिदिन के मामलों में स्थानीय बोलियों का उपयोग करते हैं, लेकिन आधिकारिक संचार में, वे या तो हिंदी या उर्दू का उपयोग करते हैं

जिले में अनुसूचित जनजाति की आबादी बहुत ज्यादा  नहीं है, लेकिन वे सादरी या नुबंदरी (जनजातीय भाषा) का उपयोग स्वयं बात करने के लिए करते हैं।

त्योहार

हिंदुओं के महत्वपूर्ण त्योहार होली, दिवाली, दशहरा और रामनवमी हैं। बसंत पंचमी, छठ , भाई दुज, तीज, जितिया  इत्यादि जैसे अन्य त्यौहार भी जिले में मनाए जाते हैं। मुस्लिम समुदायों के महत्वपूर्ण त्यौहार इद-उल-फ़ितर, बकरीद , मुहर्रम, शबे – बारात इत्यादी भी मनाये जाते  हैं। जनजातियों का एक विशेष त्यौहार कर्मा , सरहुल,  इत्यादि है। गैर-आदिवासी भी कर्म त्यौहार में भाग लेते हैं।

कला और शिल्प

इस जिले में कला और शिल्प के बारे में विशेष रूप से उल्लेख करने के लिए कुछ भी नहीं है, लेकिन टोकरी (बास्केट), बीड़ी, पत्तल (पत्तियां प्लेट), मिटटी के बर्तन ( जैसे घड़ा, चेरी, सुराही, इत्यादी ), मिटटी की मुर्तिया आदि जैसे हैंडकाफ्ट आजीविका का स्रोत है।

संगीत और नृत्य

जिला के ग्रामीण इलाकों में लोक संगीत लोकप्रिय है। यह आमतौर पर महत्वपूर्ण त्यौहार, विवाह और अन्य अवसरों पर प्रस्तुत किया जाता है। जनजातीय नृत्यों में विशिष्टताएं हैं और त्यौहारों, विवाहों और अन्य अवसरों की पूर्व संध्या पर प्रदर्शन किया जाता है।